Free songs
BREAKING

राजदरबार : टूटेगा सपना ?

राजदरबार : टूटेगा सपना
हर आईएएस अफसर का सपना होता है कि वह नौकरशाही की सबसे प्रमुख कुर्सी यानि की मुख्य सचिव के पद से रिटायर हो। यूपी के भी 16 सीनियर आईएएस ऐसी ही इच्छा रखते थे, लेकिन मुख्य सचिव की कुर्सी पर 1985 बैच के आईएएस आरके तिवारी की तैनाती का आदेश जारी होते ही इन 16 सीनियर आईएएस अफसरों के मुख्य सचिव बनने का सपना टूट गया है। इसमें इन अफसरों की कोई दोष नही है। सपना टूटने की वजह है, वक्त। इस वक्त के चलते ही अब आरके तिवारी फरवरी 2023 तक मुख्य सचिव के पद पर रहेंगे। इतने लंबे वक्त तक उनके मुख्य सचिव के पद पर विराजमान रहने के चलते फरवरी 2023 के पहले ही वर्ष 1984, 1985, 1986 और 1987 बैच के कुल 16 आईएएस रिटायर हो जायेंगे। इसे लेकर ही अब नौकरशाही में चर्चा हो रही है कि मुख्य सचिव की कुर्सी के नजदीक पहुँच कर भी अब 1984 बैच के दुर्गा शंकर मिश्रा और संजय अग्रवाल, 1985 बैच के दीपक त्रिवेदी, शालनी प्रसाद, मो. इफ्तेखारुद्दीन, डा.गुरुदीप सिंह, 1986 बैच के आलोक टंडन, आलोक सिन्हा, मुकुल सिंघल, कुमार कमलेश, प्रभात सारंगी, 1987 बैच के अवनीश अवस्थी, देवाशीष पंडा, रमारमण और जीवेश नंदन मुख्य सचिव बनने की रेस से बाहर हो गए हैं। हालांकि ये सभी काबिल अफसर हैं। सरकार के अहम पदों पर कार्य कर रहें हैं, लेकिन वो वक्त यानि फरवरी 2023 के बाद का इन अफसरों के पास नही है। फरवरी 2023 आरके तिवारी रिटायर होंगे और उसके पहले ही यह 16 आईएएस अधिकारी रिटायर हो चुके होंगे। इन 16 अफसरों में शामिल एक अधिकारी कहते है कि यह सही है कि अब वह मुख्य सचिव नही बन पायेंगे क्योंकि उनका सपना वक्त ने तोडा है, इसे हमे अब स्वीकार करते हुए अपना कार्य करना होगा। वैसे भी कहा जाता कि हर व्यक्ति की सारी इच्छाएं पूरी नहीं होती। जितना मिला है वह बहुत है और उसके लिए प्रभु का बहुत आभार। ……वरिष्ठ पत्रकार राजेन्द्र कुमार की कलम से.

afsarnama
Loading...
Scroll To Top